ऑनलाइन संबंधी

हमने 17 अतिथियों ऑनलाइन

आंकड. एं


Warning: Creating default object from empty value in /home/graamam/public_html/gramam/hindi/modules/mod_stats/helper.php on line 106
अंतर्वस्तु दृश्य मार : 44706


भूमंडलीकरण / वैश्वीकरण और अंग्रेज़ी

भारत में अंग्रेज़ी भाषा प्रेमी नीति-निर्माताओं ने अंग्रेज़ी के अधिक उपयोग की वकालत की है क्योकि विकास के अभाव तथा विश्व के साथ बेहतर अखण्डता एवं आधुनिकीकरण केलिए या हा आवश्यक हैं। फिर भी विश्वभर के अनुभवों से पता चलता है कि राष्ट्रें जो लोगों को अपनी भाषा में उपयुक्त प्रौद्योगिकियाँ अपनाने केलिए अनुकूल माहौल प्रदान करते है, वे भूंमडलीकरण की चूर्नोतियों का सामना करने में सफल हुए हैं।

वैश्वीकरण/भूंमडलीकरण के विविध सूचकांकों से सूचना मिलता है कि भारत सबसे कम /अल्पतम भूमंडलीकृत राष्ट्रों में एक है। सबसे भूमंडलीकृत राष्ट्रें उच्च अध्ययन केलिए अंग्रेज़ी पर निर्भर नहीं करते हैं । दुनिया में भूमंडलीकृत होने केलिए शीर्षस्थ दस देशों द्‌वारा सचमुच विदेशी भाषा का उपयोग नही करतेहैं । के ओ एक भूमंडलीकरण सूचकांक वर्ष 2009 में कुल 156 देशों में 51.36 अंक के साथ भारत का स्थान 122 रहा है। वर्ष 2007 में 122 देशों में भारत का स्थान 88 रहा जो गिरावट को दर्शाती है। एक महत्वपूर्ण बात यह है कि चीन की तुलना में भारत कम भूमंडलीकृत हूई और वै भूमंडलीकरण के आधार पर इस्राइल, स्वीडन, कोरिया या जापान की तुलना में भारत सबसे पीछे है। जब अन्य सभी देश अपनी भाषा में भूमंडलीकृत कर सका तब भारत के कुलीन वर्ग इस आशय का प्रचार कर रहे है कि हमें अंग्रेज़ी अधिक उपयोग करने की आवश्यकता है और उन जनताओं को उनकी भाषा में ज्ञान देने के पक्ष में नहीं है।

ताई भाषा लिपि भारतीय लिपियों के समान है, अपनी भाषा में भूमंडलीकरण का सामना सफलतापूर्वक करती है। वर्ष 2008 में 6.6 करोड़ की छोटी आबादी, यह भारत की आबादी के 5% के समान है, के बावजूद विश्व के साथ अधिक एकीकृत हुई है।

जहाँ सबसे अधिक सराहनीय साफटवेयर सेवा सहित भारत से नियति का मूल्य 175.7 बिलयन डालर है। जब कि आयात की गई सामग्रियों की लागत 28.75 अरब डालर है। वर्ष 2008 में ताइलैंड का निर्यात भारत के करीब 174.9 अरब और निर्यात केवल 159.1 अरब रहा है।

जबकि ताइलैंड में वर्ष 2007 में कुल पर्यटकों का आगमन 1.45 करोड़ रहा और 18 वाँ स्थान पर सूचीबद्ध किया जिसकी तुलना में भारत में पर्यटकों का आगमन केवल 50.8 लाख रहा।

विश्व में अंग्रेज़ी भाषा बोलनेवाले सबसे बड़े देश होने का गर्व भारत करती है लेकिन इसकी फायदा भारत को नहीं मिली है क्योंकि अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार, विदेशी प्रत्यक्ष विनिवेश, पर्यटकों का आगमन, इटँरनेट प्राप्ति, patent और वैज्ञानिक नवीकरणों आदि पर प्रकट हुए अनुसंधान और विकास में भारत का हिस्सा बहुत कम रहा ।

Country

KOF Index[1]

Merchandise Trade, 2008 in[2] US $ Billions

Trade percapita

 

(US$, 2006-2008)

Trade to GDP ratio (2006-2008)

Tourist Arrivals in lakhs

 

Patent grants to Residents 2006

 

World FDI Flow US $ B2008

Exports

Imports

Native Language Countries

 China

 65.26

 1428

 1132

 1, 796

 73.4

 417

 31, 945

 108.3

 Korea

 64.82

 422

 435

 18 ,249

 90.5

 58

 91, 645

 76.03

 Indonesia

 51.31

 139

 126

 562

 60.4

 53

 16

 79.19

 Vietnam

 NR

 63

 80

 1, 145

 159.4

 29

 12

80.50

 Thailand

 56.87

 177

 178

 5, 250

 151.5

 117

 116

 100.9

Colonial Language Countries 

 India

 49.70

 177

 293

 467

 47.6

 34

 1, 907

 41.6

 Pakistan

 52.35

 20

 42

 374

 41.5

 6.4

 ...

 5.40

 Bangladesh

 36.01

 

 24

 217

 49.1

 2.7

 16

 1.09

 Philippines

 59.00

 49

 60

 1 370

 85.1

 23

 38

 15

 Malaysia

 75.81

 199

 156

 13 911

 205.9

 157

 338

 80.5