ऑनलाइन संबंधी

हमने 14 अतिथियों ऑनलाइन

आंकड. एं


Warning: Creating default object from empty value in /home/graamam/public_html/gramam/hindi/modules/mod_stats/helper.php on line 106
अंतर्वस्तु दृश्य मार : 45670


 

अंग्रेज़ी भाषा प्रेमियों से भरा साक्षात्कार बोर्ड में घोर भदेभाव


भारत सरकार संघ लोक सेवा आयोग द्‌वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा के माध्यम से सर्वश्रेष्ठ सिविल सेवकों की भर्ती करती है। इनके तीन चरण है। सिविल सेवा (प्रांरभिक) परीक्षा, 2006 केलिए आवेदन दिए 3,83,983 उम्मीदवारों से केवल 19,5803 या 51.0 प्रतिशत उम्मीदवारों ने प्रारंभिक लिखित परीक्षा लिखी। यह वस्तुनिष्ठ परीक्षा है जिसमें विषयो का कोई महत्व नहीं। मुख्य परीक्षा के दूसरे चरण में कुल 7766 उम्मीदवारों में से 7496 उम्मीदवारों ने अकतूबर नवंबर 2006 में आयोजित सिविल सेवा (मुख्य) लिखित परीक्षा लिखी थी। मुख्य परीक्षा के लिखित भाग के परिणामों के आधार पर 1409 उम्मीदवार साक्षात्कार केलिए योग्य बन गए और 1408 उम्मीदवारों ने साक्षात्कार में भाग लिया। परीक्षा में भाग लिए और साक्षात्कार दिए गए उम्मीदवारों की संख्या क्रमश 748 व 1406 है। (सन्दर्भ 58 वी वर्षिक रिपोर्ट, लोक सेवा आयोग upsc.gov.in)  

जबकि वस्तुनिष्ठ प्रारंभिक परीक्षा में योग्यता प्राप्त उम्मीदवारों में से अंग्रेज़ी भाषा का चयन करके 3926 (53%) और हिन्दी का चयन करके 3286 (44%) और अन्य भारतीय भाषाओं का चयन करके 200 (3%) उम्मीदवारों ने परीक्षा लिखी।  

जबकि विवरणात्मक परीक्षा में उत्तीर्ण घोषित उम्मीदवारों के अंकों से पता चलता है कि अंग्रेज़ी में परीक्षा लिखे 958 उम्मीदवार उत्तीर्ण हुए जिसकी सफलता दर 40% और हिन्दी में परीक्षा लिखे 383 उम्मीदवार उत्तीर्ण घोषित किए जिसकी सफलता दर केवल 11.65% है। तमिल और तेलुगु माध्यम से परीक्षा लिखे उम्मीदवारों की सफलता दर क्रमश 18.57% और 16.98% है।  

जबकि अंग्रेज़ी माध्यम छात्रों के केवल 53% ने मुख्य परीक्षा लिखी, लेकिन साक्षात्कार तक पहूँचते ही इनका प्रतिशत बढ़कर 68 हो गया।  

जबकि अंतिम सफलता दर यह दर्शाती है कि साक्षात्कार के बाद केवल एक ही हिन्दी माध्यम उम्मीदवार पहले बीस में आ गया जो भारतीय भाषाओं की सफलता के 5% का प्रतिनिधत्व करता है।

संघ लोक सेवा/सेक्टर की परीक्षाँए लिखने में भारतीय भाषाओं का उपयोग करने की अनुमति बहुत मुश्किल से देती है। यहाँ तक कि लोकतांत्रिक दवाब के बाद जहाँ इसका उपयोग किया जाता है वहाँ साक्षात्कार में विषयपरक मापंदड रखकर इन्हें जानबूझकर बहिष्कृत करने का प्रयास चलता है। जब भी विषय परक की बात उठती है, भारतीय छात्रों का बहिष्कार किया जाता है।


UPSC Civil Services Examinations(2002-2005)
Year Medium Candidates Appeared (number) Successful Candidates (number) Success (per cent)
2002 English 1969 238 12.09
Hindi 1270 57 4.49
2003 English 3159 342 10.83
Hindi 2469 49 1.98
2004 English 2989 346 11.58
Hindi 2192 58 2.65
2005 English 2898 340 12.04
Hindi 1880 65 3.46
Source: Union Public Service Commission quoted in 
India Development Report, IGIDR