ऑनलाइन संबंधी

हमने 24 अतिथियों ऑनलाइन

आंकड. एं


Warning: Creating default object from empty value in /home/graamam/public_html/gramam/hindi/modules/mod_stats/helper.php on line 106
अंतर्वस्तु दृश्य मार : 45678


भारतीय भाषा माध्यम छात्रों/उम्मीदवारों को सरकारी

नौकरियाँ निषेध की जाती है।

“सभी प्रतियोगी परीक्षाएँ अंग्रेज़ी में आयोजित करती है इसलिए मातृभाषा में अध्यायन करने वाले छात्रों का स्तर पीछे रहा गया"।

भारत के मुख्य न्यायमूर्ति के. जी. बालकृष्णन,

न्यायमूर्ति पी. सदाशिवम और बी. एस चौहान के न्यायपीठ

राज्यों की राजभाषा की उपेक्षा करके भारतीय भाषा माध्यम स्कूलों में शिक्षित अधिकांश भारतीय छात्रों को अलग करने और प्रत्येक प्रतियोगी परीक्षा केलिए अंग्रेज़ी को एक अनिवार्य विषय बनाने की नीति भारत अपना रही है। अंग्रेज़ी में दक्षता रखे बिना एक साधारण गरीब ग्रामीण उम्मीदवार केन्द्रीय सरकार की नौकरी में लिपिक तक नहीं बन सकता । (अनुलग्नक 1) भारत में कुलीन अल्पसंख्यकों के लाभ केलिए अधिकांश जनताओं के विरुद्ध नकारात्मक भेदभाव का अनुपालन भारत सरकार कर रही है जो भारतीय संविधान के अनुच्छेद 16 (1) व (2) के मूल प्रावधानों का उल्लंघन है।

“अनुच्छेद 16 (1) के अनुसार देश के अधीन किसी कार्यालय में रोज़गार या नियुक्ति संबधी मामले में सभी नागरिकों केलिए समान अवसर होगी"।

(2) देश के अधीन कार्यालय या किसी रोज़गार के संबध में किसी भी नागरिक पर धर्म, कुल, जाति, लिंग, पीढ़ी, जन्मरथान, आवास या किसी एक के कारण अयोग्य या भेदभाव नहीं किया जाएगा।

जबकि प्रत्येक सार्वजनिक संगठन जैसे भारतीय तेल निगम (10C) और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक प्रत्येक राज्यों में ग्राहकों की सेवा उनकी प्रादेशिक भाषा में करते हैं। भारतीय भाषाओं में विज्ञापन देते है। लेकिन भर्ती राज्य की राजभाषा में प्राप्त दक्षता के आधार पर नहीं करती बल्कि अंग्रेज़ी के आधार पर करती है जिसका ग्राहकों/उपभोक्ताओं के साथ संपर्क करने केलिए बहुत कम उपयोग होता है।

केरल में जहाँ मलयालम राजभाषा है, कार्यरत स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर में केन्द्रीय सरकार उम्मीदवारों का चयन करते समय मलयालम के बदले अंग्रेज़ी में दक्षता की परख करती है।

विश्व भर की सरकारों केन्द्रीय सरकार के कार्यकारी अभिकरणों के प्रबंधन में देशी भाषाओं के उपयोग को बढ़ावा देती हैं। आफ्रिका में यूरोपीय देशों के पूर्वकॉलनी को छोड़कर विश्व के बहुभाषी देश केन्द्रीय सरकारी संगठनों में अनिवार्य रूप से विकेन्द्रीकृत भर्ती आयोजित करती है।

 

 क्रम सं

 करिअर प्रोफाइल

 विषय

 भाषा दक्षता

 

1

 सिविल सेवा परीक्षा

 निबन्घ 200 अंक

 सामान्य अध्ययन 300 अंक

 किसी दो विषय 300 अंक

 अंग्रेज़ी 300 अंक

 एक भारतीय भाषा 300 अंक

 राष्ट्रीय सुरक्षा अकादमी

 गणित 300 अंक

 सामान्य ज्ञान 400 अंक

 सामान्य अंग्रेज़ी  200 अंक

 इंण्डियन इंजीनियरिगं सेवा

 सिविल इंजीनियरिग

 इल्कट्रोनिकस

 टेलिक्म्यूनिकेशन

 मेकानिकल

 प्रत्येक 200 अंक

 केवल अंग्रेज़ी में

 भारतीय आर्थिक सेवा

 सामान्य अध्ययन 100 अंक

 सामान्य अर्थशास्त्र चार पेपर

 प्रत्येक 200 अंक

 सामान्य अंग्रेज़ी 100 अंक, केवल अंग्रेज़ी में

 भारतीय सांख्यिकीय सेवा

 सामान्य अध्ययन 

सांख्यिकीय चार पेपर 

प्रत्येक 200 अंक

सामान्य अंग्रेज़ी 100 अंक, केवल अंग्रेज़ी में

 

2

 रेलवे भर्ती बोर्ड

 सामान्य अवबोध तर्क

 सामान्य अंग्रेज़ी

 

3

 बैकिग क्षेत्र

 तर्क 80 अंक

 सख्यात्मक अभिरुचि 80 अंक

40 अंक

 अंग्रेज़ी भाषा 50 अंक

 

4

 सार्वजनिक 

क्षेत्र की कंपनियाँ

 भाग 1 प्रबन्धन अभिरूचि (75 प्रश्न) भाग
II :ज्ञान क्षमता (75 प्रश्न)

केवल अंग्रेज़ी में