ऑनलाइन संबंधी

हमने 12 अतिथियों ऑनलाइन

आंकड. एं


Warning: Creating default object from empty value in /home/graamam/public_html/gramam/hindi/modules/mod_stats/helper.php on line 106
अंतर्वस्तु दृश्य मार : 45668


14.  अनुवाद और प्रौद्योगिकी

    भारतीय भाषाओं में ज्ञान का अन्तरण करने में अप्रभावी और निष्ठहीन प्रयास भारत की अफसर शाही का सबसे बड़ी विशेषता है। बाज़र आधारित प्रोत्साहन और प्रतियोगी पाठ्‌यपुस्तक लेखन भारतीय भाषाओं में पर्याप्त और अद्यतन ज्ञान की उपलब्धता सुनिश्चित करेंगे। कम रोज़गार क्षमता रखनेवाले कला और मानवीकी में देशी भाषाओं का उपयोग स्वंय पराजित करने का अभ्यास रहेगा और विज्ञान एवं छात्रवृत्ति केलिए अनुपयुक्त घोषित कर देशी भाषा की उपेक्षा की जाती है । (अनुलग्नक 13)

          युनेस्को के अनुवाद इन्डेक्स में दी गई विदेशी भाषाओं से भारतीय भाषाओं में ग्यारह भारतीय भाषाएँ विश्व की शीर्षस्थ तीस भाषाओं में आती है, जबकि एक भी भारतीय भाषा अनूदित शीर्ष भाषाओं में नही आती है। जबकि यूरोपीय अनुप्रयोग के मुफत स्वचालित मशीन अनुवाद में किसी को भी भारतीय भाषाओं में सेवाएँ विकसित करने केलिए सरकारी समर्थन दिया जाता है।

    जबकि प्रोग्राम की भाषाएँ विकसित करनेवाले सन्‌ माइक्रो सिस्ट्म जैसी कंपनियाँ विविध भाषाओं जिसमें फिन्निश, जापानीस, कोरिया और चीनी शामिल है में जावा जैस्‌ विकास उपकरणों को बढ़ावा देते है।

     पुस्तकों और वैज्ञानिक कार्यों का अनुवाद स्वतंत्र पाठ्‌यपुस्तक लेखक और प्रकाशन गृहों द्‌वारा बाज़ार में माँग के आधार पर किया जाता है। उदाहरणार्थ नुबेल पुरस्कार विजेता पाँल सामुअलयन की अर्थशास्त्र के  पाठ्‌यपुस्तक का अनुवाद पचास भाषाओं में अऩुदित किया गया है जिसमें केवल आधा लाख लोगों द्‌वारा बोलनेवाली ग्रीनलैडिक भाषा भी शमिल है। लेकिन करोड़ों लोगों द्‌वारा वोलनेवाली  किसी भी भारतीय भाषा में इसका अनुवाद नहीं हुआ है क्योंकि आपूर्ति माँग सृजित करती है। जब उच्च अध्ययन में खासकर व्यावसायिक पाठ्‌यक्रमों में भारतीय भाषाओं में पाठ्‌यपुस्तकों की माँग होती है इसकी आपूर्ति व्यवसायिक पाठ्‌यपुस्तक लेखक द्‌वारा की जाती है। इसके बाद संकाय और छात्रों द्‌वारा अनुसंधान लेखों की आपुर्ति करती है। दुर्भाग्यवश भारत के प्रीमियर संस्थानों में शिक्षा माध्यम के रूप में भारतीय भाषाओं को अस्वीकार किया है।

प्रौद्योगिकी भारतीयों के रक्षक है : मुफत स्वचालित मशीन अनुवाद सेवाएँ ही भारतीयों की एक प्रतीक्षा है। लेकिन यह भी चेतावनी के साथ आती है एक भाषा इनकी इन्टरनेट उपस्थिति केलिए चुना है। इसलिए 3.7 लाख लोगों द्‌वारा बोलनेवाली आइसलैडिक में सेवाएँ उपलब्ध है लेकिन 347 लाखों द्‌वारा बोलनेवाली मलयालम में सेवाएँ उपलब्ध नहीं है।

 

 


अनुलग्नक (13)

अनुवाद सूचकांक

क्रम सं

देश / श्रंणी

भाषा

पुस्तकों की संख्या

लक्ष्य भाषा

पुस्तकों की संख्या

शीर्ष 10 भाषाएँ और देश

 

जर्मनी

अंग्रेज़ी

1032456

जर्मन

271085

 

स्पेइन

फ्रेंच

189064

स्पानिश

207825

 

फ्रांस

जर्मन

172940

फ्रेंच

203633

 

जापान

रूसी

94714

जापानीस

124542

 

रूस

इटालियन

56368

अंग्रेज़ी

116646

 

नेतरलांडस

स्पानिश

43883

डच

113964

 

पोलैड

स्वीडिश

31358

पुर्तगली

71287

 

डेनमार्क

लैटिन

16831

पोलिश

64138

 

इटली

ढानिश

16694

रूसी

63009

 

ब्रेज़ील

डच

16350

दानिश

59008

भारत बनाम छोटे देश/भाषाँए

 

इंडिया

हिन्दी

1399

हिन्दी

3639

 

 

बंगाली

2044

बंगाली

2116

 

 

 

 

तमिल

1763

 

आइसलैंड

आइसलैडिक

1116

आइसलैडिक

6972

 

एस्टोनिया

एस्टोनियन

3918

एस्टोनियन

14150

 

स्पेन

कटालन

6628

कटालन

 

 

 

मशीन अनुवाद अनुप्रयोग (मुफ़त)

क्रम सं

 

स्रोत

उपलष्धता

भाषा

(योजित)

हिन्दी

अन्य भारतीय भाषाएँ

1.

एप्रेटियम

हाँ

11

नहीं

नहीं

2.

औपन लोगे

हाँ

6

नहीं

नहीं

3.

गूगल ट्रान्सलेट

नहीं

59

हाँ

नहीं

4.

बाबेल फिश

 

30

नहीं

नहीं

5.

बिंग ट्रान्सलेटर

 

25

नहीं

नहीं

6.

ग्रामट्रान्स

 

6

नहीं

नहीं

7.

सिस्टरान

 

36

नहीं

नहीं

8.

1800 ट्रान्स्‌लेट

 

32 (115)

नहीं

नहीं

9.

प्रोम्पट

 

24

नहीं

नहीं

10.

वेलर्डलिंको

 

43

हाँ

नहीं