ऑनलाइन संबंधी

हमने 9 अतिथियों ऑनलाइन

आंकड. एं


Warning: Creating default object from empty value in /home/graamam/public_html/gramam/hindi/modules/mod_stats/helper.php on line 106
अंतर्वस्तु दृश्य मार : 44699


 

 

6. ज्ञान का निर्माण और प्रसार

 

 

           भारत में अंग्रेज़ी प्रेमियों का दावा है कि अंग्रेज़ी आधारित व्यावसायिक शिक्षा अच्छी गुणता पूर्ण अनुसंधान केलिए अनिवार्य है। लेकिन सायन्सवाच' नामक पत्रिका के आँकड़ो से पता चलता है कि भारत छोड़कर विश्व के शीर्ष बीस राष्ट्र व्यावसायिक स्नातकपूर्व पाठ्‌यक्रमों का अध्यापन अपनी देशी भाषाओं कराते है। रूसी की सक्रंमण अर्थ व्यवस्था को छोड़कर गुणता केलिए भारत का स्थान उस तालिक के सबसे नीचे है। अनुलग्न (4)

 

   

 

-                जबकि सबसे महत्वपूर्ण अनुप्रयुक्त क्षेत्रों जैसे  कम्पयूटर विज्ञान (1.72%) नैदानिक चिकित्सा  (1.26%), गणित (1.63%),  सूक्षम जैव विज्ञान (1.35%) , अर्थशास्त्र एवं व्यवसाय (0.84%), और समाजिक विज्ञान (0.70%), में भी वैज्ञानिक लेखों की विश्व उपज में भारत का हिरसा केवल (2%) से कम है।

-     जबकि भारत ने 12500 वैज्ञानिक लेख प्रकाशित किया है जो वर्ष 1985 में चीन द्‌वारा प्रकाशित 3700 लेखों की तुलना चार गुना अधिक है। लेकिन वर्ष 2003 में चीन ने 40,000 से अधिक  वैज्ञानिक लेख प्रकाशित करना शुरू किया जो भारत के 20,000 लेखों से दो गुना अधिक है। यह अन्तर और भी बढ़ गया जहाँ वर्ष  2007 में चीन ने 80,000 लेख प्रकाशित किए जबकि भारत का योगदान केवल 27,000 लेख रहे।

     जबकि भारतीय विश्व विद्यालयों और कंपनियों द्‌वारा किए गए पेटेंटो की संख्या कोरिया या ताइवान जहाँ अध्यापन अपनी देशी भाषा में होती है  जैसे छोटे देशों की तुलना में कम हैं ।

     विश्व बैंक संस्थान अपनी अद्यतन रिपोर्ट ''विश्व अर्थ व्यवस्था में ज्ञान का मापन'' में के इ आई रैंक (ज्ञान अर्थ व्यवस्था सूचकांक) में भारत को 100 वाँ स्थान पर रखा है जो चीन सहित एशियाई राष्ट्रों के पीछे है। चीन का स्थान 77 है । उत्पादकता मापन दर्शाते है कि भारत न ही प्रौद्योगिकी आमेल करते है न ही सृजित करते है। उत्पादन मूल्य प्रतिव्यक्ति लगातार 2000 तक अमेरिकी डालर मूल्य 98.12 है जो वर्ष 2007 में अन्य विकास शील राष्ट्रों केलिए 366 है। जबकि वर्ष 2000 में विकासशील राष्ट्रों की 253 की तुलना में यह केवल 62.85% वैसे ही वर्ष 1994 में भारत में कृषि उत्पादकता देशी भाषी राष्ट्रों जैसे चीन और इन्डोनेशिया से बीस साल पीछे और कोरियो से 45 वर्ष से अधिक पीछे है। यह स्थिति सुधार अवधि के दौरान भी सूधरे नही। वर्ष 19992001 अवधि में कृषि उत्पादन सूचकांक दर्शाते है कि भारत और पूर्वी एशिया के बीच उत्पादकता का अन्तर और बढ़ रहा है।

अनुलग्नक (4)

श्रेणी

क्षेत्र

अमेरिका (200307)

विश्व हिस्सा

200307 (%)

आ आइ सी डब्लयू

भारत (%)

हिस्सा %

लेख

आ आइ सी डब्लयू

चीन

भारत

1

भौतिकी

23.26

125406

+ 55

13.07

3.88

-20

2

रसायनविज्ञान

20.7

125799

+ 52

12.65

5.04

-32

3

भौतिक विज्ञान

18.1

30590

+ 47

16.01

5.45

-25

4

भू विज्ञान

34.62

44846

+ 42

8.00

2.90

-49

5

कम्प्यूटर विज्ञान

35.27

20732

+ 40

7.95

1.72

-33

6

सूक्ष्म जैवविज्ञान

34.01

31693

+ 39

4.37

2.33

-48

7

नैदानिकी चिकित्सा

36.92

367956

+ 36

2.47

1.26

-54

8

जैव विज्ञान

37.1

111479

+ 35

4.24

2.18

-52

9

अन्तरीक्ष विज्ञान

49.17

25606

+ 34

4.73

2.55

-42

10.

औषध विज्ञान

30.84

27515

+ 34

6.20

3.37

-41

11.

अर्थशास्त्र

48.19

31870

+ 32

3.08

0.82

-46

12.

इंजीनियरिग

28.06

102445

+ 31

9.68

3.10

-27

13.

कृषि संबंधी

23.88

24401

+ 30

4.34

5.17

-55

14.

अणु विज्ञान

45.96

53682

+ 29

3.56

1.27

-59

15.

गणित

29.86

26186

+ 28

11.40

1.63

-37

16.

स्नायू विज्ञान

43.44

69397

+ 26

2.20

0.60

-50

17.

प्रतिरक्षण विज्ञान

45.51

29104

+ 26

2.68

1.35

-64

18.

पारिस्थितिकी

35.65

43661

+ 26

6.06

2.66

-48

19.

पौध, पशु विज्ञान

30.27

77547

+ 25

4.37

3.40

-61

20.

मनोरोग विज्ञान

51.97

59095

+ 18

 

0.33

-36

21.

सामाजिक विज्ञान

52.29

85084

+ 17

1.66

0.70

-46

 

        * विश्व से पारस्परिक प्रभाव की तुलना