ऑनलाइन संबंधी

हमने 21 अतिथियों ऑनलाइन

आंकड. एं


Warning: Creating default object from empty value in /home/graamam/public_html/gramam/hindi/modules/mod_stats/helper.php on line 106
अंतर्वस्तु दृश्य मार : 44709


 

15.   अंग्रेज़ी सीखना

 

भारतीय भाषाओं की रोज़गार क्षमता बढ़ाए :

     व्यावसायिक पाठ्‌यक्रम विशेषकर इंजीनियरिग और मेडिसिन जब देशी भाषाओं में सिखाई जाती है तब असीम फायदा होती है और विकास में तेज़ी आती है। यह अर्थव्यवस्था में रोज़गार के अवसर पैदा करता है।

 

चिकित्सा विज्ञान : स्वास्थ्य उद्योग अस्पतालाओं के अवसंरचना निमार्ण, नैदानिक अन्य उपकरण एवं औषध संबधी विशाल नेटवर्क है। पदानुक्रम से इसके सबसे ऊपर चिकित्सक है जिनकी भाषा पूरे उद्योग में सभी लिखित अनुदेशों की भाषा है। एक डॉकटर अनेक नर्सों, अनेक पैरा मेडिकल स्टाफ, मेडिकल दूकान और अन्य अस्पताल में नौकरी सृजित करते है।

इंजीनियरिंग : इंजीनियरिंग निर्माण उद्योग का आधार है। मुख्य उद्योग में पीछे और आगे का संबध है जो सहायक एककों में कार्यरत एक इंजीनियर केलिए नौकरी उप्पन्न करते है और घटक उद्योग इंजीनियर की भाषा में विशेषज्ञता रखते है।

भाषा का उपयोग करें, इसे नष्ट न करे :

     यह सच है कि विकसित देशों और विश्व की बड़ी अर्थ व्यवस्था में भारत को छोड़कर किसी भी राष्ट्र व्यावसायिक पाठ्‌यक्रमों में विदेशी भाषा का उपयोग नहीं करता है । उसी समय विश्व के सभी राष्ट्रो को संवाददातों का एक भण्डार है जो विश्व के चारों ओर उपलब्ध जानकारियों को अद्यतन बनाने में मदद करते हैं लेकिन भारत में ज्ञान का अद्यतन अफसर शाही के हस्तक्षेप पर ज़ोर देकर अधिक दूर किया जाता है जहाँ बाज़ारी प्रोत्साहन चुनाव जीत लिया है। यह जानने केलिए न्यूयोर्क टाइम्स पढ़ने या विश्व में वित्तीय सकंट समझने केलिए वॉल स्ट्रीट जर्नल  के ग्राहक बनने की जरूरत नहीं। यह आपके स्थानीय समाचार पत्रों और चैनलों से मिलता है वैसे ही न केवल जापानीस और कोरिया बल्कि आफ्रिका और दक्षिण एशिया छोड़कर पूरे विश्व अद्यतन वैज्ञानिक नवीनता सहित सबके बारे में अपना ज्ञान और ज्ञान के विवरण अपनी भाषाओं में लगातार प्राप्त करते है जैसे हम फुटबॉल प्रतियोगिता और चुनाव का परिणाम प्राप्त करते है। क्योंकि विज्ञान के संबध में सूचना प्राप्त करने केलिए जनता की अपनी भाषाओं में इसका उपयोग किया जाता है।

     यह सर्वविदित है कि भारत की राष्ट्रीय हीनता कम्पलेस जो अग्रेज़ी बोलती है, देश के भीतर विचार विनमय केलिए महत्वपूर्ण है। कुलीन वर्ग ने भारत में आधुनिक वर्ना प्रणाली को बनाए रखने केलिए निश्चित भ्रमों  को संरथानगत बनाया है

 

       

 

 

अंग्रेजी का प्रयोग करें, इसका दुरुपयोग नहीं करें:


 



समझ के साथ अंग्रेजी का प्रयोग

 

 
 

 

 

 


पढ़ना

पढ़ना और लिखना

पढ़ो, लिखो और बोलो

 

 

 

 

 

 

 

Professional Undergraduate

Courses

 
इज़राइल

नॉर्डिक राज्यों स्विस

 

भारत

पाकिस्तान
बंगलादेश

Professional Graduate

Courses

 
बड़े विकसित देशों
पूर्व एशिया

इज़राइल,

नॉर्डिक राज्यों
स्विस

 सार्वजनिक क्षेत्र
  रोजगार

 

 

 

भारत
पाकिस्तान
बंगलादेश

 

      कामगार की भाषा भारतीय भाषा है अतः प्रबंधक अगर आई आई एम या किसी अन्य मान्यता प्राप्त संस्थानों में पढ़ते है, कामगार की भाषा में बेहतर संपर्क क्षमता प्राप्त करें, वैसे ही शीर्षरथ सिविल सेवकों को भी करना चाहिए। औषध निमार्ण कंपनियाँ केरल में अंग्रेज़ी जाननेवाले चिकित्सा प्रतिनिधियों की भर्ती डाक्टरों को उनके उत्पादों के विपणन केलिए करती है। इन डाक्टरों में अधिकांश मलयालम जाननेवाले है। आतिथ्य सत्कार उद्योग में ग्राहकों की सेवा केलिए होटल स्वागत कर्ता, परिचायिका और प्रबंधकों को अंग्रेज़ी में दक्षता होनी चाहिए जिसमें अधिकांश ग्राहक मलयालम जानती है या मलयाली है। यह विडंबना है कि मलयाली को अपनी उपभोक्ताओं जो अनिवार्य रूप से मलयाली होते है, की सेवा केलिए अंग्रेज़ी में दक्षता हासिल करनी है। नौकरी मिलने के बाद देशी भाषा को कंलकित करने केलिए समूह चर्चा केवल अंग्रेज़ी में आयोजित की जाती है। कार्यक्षेत्र के बाहर सभी अनौपचारिक बातचीत भारतीय भाषा में होगी।

     कोई मान सकता है कि सर्वोच्च प्रबंधन तथा लोगों के प्रतिनिधि प्रशासन से कार्यबल (वर्कफोर्स) संपन्न होता है जो किसी भाषा में नियंत्रित किए जानेवाले कार्य से स्वरूप के अनुसार चलने का एक साधन है जो लोगों द्‌वारा कम समझ जाता है तथा कार्यबल (वर्कफोर्स)  व प्रबंधन एवं सिविल सेवक व आम लोगों के बीच वर्ग विभाजन की एक रेखा खीचता है, कार्यबल (वर्कफोर्स) एवं लोगों के नियमार्थ अंग्रोज़ी सीखनी वाध्य कर रहे है तथा वर्ग समाज की यह अपेक्षा होती है कि भिन्न वर्ग विदेशी किन्तु प्रामाणिक संचार से आदेशों का पालन करें।